Turkish folk dances

तुर्की के लोक नृत्य

Authors

  • Dr. Rita Dhankar Associate Professor, Bhagini Nivedita College (University of Delhi) Kair, New Delhi, Delhi 110043

Keywords:

Folk-music, dance, tarkan, zebeki, folk-dance, national, public-dance, Istanbul, Oynama folk-dance, Ankara, fantasy

Abstract

Folk-music is a very simple and intuitive science of music. It expresses the customs, way of life, food and sentiments of a particular country. Turkish folk music says the same thing. Tarkan finds a lot of mention in Turkish folk dances. In fact, Tarkan started taking special interest in folk-dances from the year 1928. The year 1941 was important in terms of changing the direction of Turkish folk dance. After the establishment of Praja Bhavan in the year 1950, the performance of folk dances had taken the form of a rich culture. Even more so, with folk-dance audiences now present in Ankara and Istanbul, folk dances were considered a new form of urban entertainment in the 1970s. In Zebeki's time there was a need to identify the national origin of every dance, but that need is no longer there. Dances were now seen as a national art form. The experience of Turkish folk dances reveals a new meaning of the word 'national'. This is different from the old prevailing servant definition of the word national. The folk dances elected in the 1970s and 1980s were national because they were amalgamated with Turkish territories. In other words, the folk dances that spread throughout urban Turkey in the 1970s were national in nature, while Tarkan-Zebeki envisioned them to be national.

 

Abstract in Hindi 

लोक-संगीत, संगीत की बहुत सरल व सहज विद्या होती है। यह देश-विशेष के रीति-रिवाज, रहन-सहन, खान-पान और भावनाओं की अभिव्यक्ति करती है। तुर्की का लोक-संगीत भी यही कहता है। तुर्की के लोक नृत्यों में तरकन का काफी उल्लेख मिलता है। वास्तव में तरकन सन् 1928 से ही लोक-नृत्यों में विशेष रूचि रखने लगे थे। 1941 का वर्ष तुर्की के लोक-नृत्य की दिशा बदलने की दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा। सन् 1950 में प्रजा-भवन होने के बाद लोक-नृत्यों का प्रदर्शन एक समृद्ध संस्कृति का रूप ले चुका था। इससे भी बड़ी बात यह थी कि अब अंकारा और इस्तांबुल में लोक-नृत्य के दर्शक मौजूद थे, 1970 के दशक में लोक-नृत्यों को नए तरह का शहरी मनोरंजन माना गया। जेबेकी के समय में हर नृत्य का राष्ट्रीय मूल पहचानने की जरूरत होती थी, किन्तु वैसी जरूरत अब नहीं रही। नृत्यों को अब राष्ट्रीय कला के रूप में देखा जाने लगा। तुर्की के लोक-नृत्यों का अनुभव बतलाता है कि ‘राष्ट्रीय’ शब्द का नया मतलब क्या है। यह राष्ट्रीय शब्द की पुरानी प्रचलित सेवक परिभाषा से भिन्न है। सन् 1970 और 1980 में चुने गए लोक-नृत्य राष्ट्रीय इसलिए थे, क्योंकि वे तुर्की के प्रदेशों से मिल-जुलकर बने थे। दूसरे शब्दों में जो लोक-नृत्य सन् 1970 में पूरे शहरी तुर्की में फेले, वे स्वाभाव से ही राष्ट्रीय थे, जबकि तरकन-जेबेकी ने उनके राष्ट्रीय होने की कल्पना ही की थी।

Downloads

Published

15-12-2021

How to Cite

Dhankar, R. . (2021). Turkish folk dances : तुर्की के लोक नृत्य. RESEARCH REVIEW International Journal of Multidisciplinary, 6(12), 86–89. Retrieved from https://rrjournals.com/index.php/rrijm/article/view/28