Death Rites in Kol Tribe

कोल जनजाति में मृत्यु संस्कार

Authors

  • Om Prakash Research Scholar, History Department, Dr. Harisingh Gour Vishwavidyalaya, Sagar (M.P.)
  • Dr. Ashok Ahirwar Professor, History Department, Dr. Harisingh Gour Vishwavidyalaya, Sagar (M.P.)

Keywords:

Kol, death rites, Baghelkhand, Agnidan, Sutak, Thirteenth (Terahavin), Mundan

Abstract

Death is the ultimate ultimate truth of life, one who has come in this world has to go one day or the other. Like other communities of Baghelkhand region, people of Kol tribe also perform death rites, but some specialties still exist in the traditional way. Kol Jana believes that death happens to the body, the soul is immortal. According to the tradition, salvation can be achieved only after performing the funeral rites, that is why the ashes (flowers) are immersed in holy rivers like Ganga or Narmada. Food, water is arranged for the dead soul and water is kept in a pitcher in the Peepal tree. Sutak is considered in the family for ten days. The person who donates fire always carries iron so that the phantom souls cannot do any wrong. On the tenth day, the dead soul is bid farewell by law, after which they become ancestors and they are recognized as God. As the case may be, household items are donated and food is provided to the family and relatives.

 

Abstract in Hindi Language

मृत्यु जीवन का अंतिम परम सत्य है इस संसार में जो आया है उसे एक न एक दिन जाना है। बघेलखण्ड क्षेत्र के अन्य समुदायों की भांति कोल जनजाति के लोग भी मृत्यु संस्कार सम्पन्न करते है किन्तु कुछ विशिष्टताएँ आज भी पारम्परिक रूप से विद्यमान है। कोल जन की मान्यता है कि मृत्यु शरीर की होती है आत्मा अमर है। जीव का परम्परानुसार अंत्येष्टि संस्कार करने के बाद ही मुक्ति मिल सकती है इसीलिए गंगा या नर्मदा जैसी पवित्र नदियों में अस्थि (फूल) विसर्जित किया जाता है। मृत आत्मा के लिए भोजन, पानी की व्यवस्था की जाती है तथा पीपल के वृक्ष में घड़े में जल भर कर रखा जाता है। दस दिन तक परिवार में सूतक माना जाता है। अग्निदान करने वाला व्यक्ति सदैव लोहा लिए रहता है जिससे प्रेत आत्मा किसी प्रकार का अनिष्ठ न कर सकें। दसवें दिन विधि विधान से मृत आत्मा की विदाई की जाती है इसके बाद वह पितर हो जाते हैं और उनको देवतुल्य मान्यता प्राप्त होती है। यथास्थिति गृहस्थी की वस्तुएँ दान दी जाती हैं और परिवार तथा सगे सम्बन्धियों को भोजन कराया जाता है।

Downloads

Published

15-12-2021

How to Cite

Om Prakash, & Ahirwar, A. . (2021). Death Rites in Kol Tribe: कोल जनजाति में मृत्यु संस्कार. RESEARCH REVIEW International Journal of Multidisciplinary, 6(12), 126–129. Retrieved from https://rrjournals.com/index.php/rrijm/article/view/33